अच्छी ख़बर..UP का वर्ल्ड क्लास रेलवे स्टेशन बनकर तैयार हो गया है

Trending उत्तरप्रदेश

Gomtinagar World Class Station: उत्तर प्रदेश के लोगों के लिए खुश कर देने वाली खबर है। आपको बता दें कि 6 साल बाद गोमतीनगर वर्ल्ड क्लास स्टेशन का इंतजार अब समाप्त होने जा रहा है। दो पैसेंजर ट्रेनों के ठहराव वाले हाल्ट से बढ़कर पांच प्लेटफॉर्म (Platform) वाले स्टेशन से आगे बढ़ते ही गोमतीनगर वर्ल्ड क्लास स्टेशन (Gomtinagar World Class Station) बन कर तैयार हो गया है। यह स्टेशन यूपी का पहला विश्व स्तरीय स्टेशन होगा।

ये भी पढ़ेंः अच्छी खबर..अब दिल्ली से सीधे 12 घंटे में पहुंचेंगे श्रीनगर

Pic Social Media

वर्ल्ड क्लास स्टेशन का निर्माण कर रहा रेल भूमि विकास प्राधिकरण (RLDA) इसे एक सप्ताह के भीतर ही रेलवे को सौंप देगा। इसी महीने के लास्ट तक गोमतीनगर स्टेशन का लोकार्पण किया जा सकता है। आपको बता दें कि तत्कालीन पीएम अटल बिहारी वाजपेयी ने गोमतीनगर हाल्ट को स्टेशन बनाने की योजना की नींव रखी थी। जिसके तहत 4 नए प्लेटफॉर्म बनाए गए। लेकिन बाद में विभूतिखंड की ओर 6 नंबर प्लेटफॉर्म को भी बनाया गया। गोमतीनगर को वर्ल्ड क्लास स्टेशन बनाने का प्रोजेक्ट 21 मई 2018 में स्वीकृत किया गया था।

इस प्रोजेक्ट पर लगभग 385 करोड़ रुपये खर्च किया गया है। आरएलडीए (RLDA) ने विभूतिखंड की ओर से कॉमर्शियल ब्लॉक बनाकर उसे लीज पर बेचा है। इससे होने वाली आय से गोमतीनगर स्टेशन का भी निर्माण कराया गया है। स्टेशन का निर्माण 10 एकड़ में हुआ है। स्टेशन की उत्तर दिशा की टर्मिनल बिल्डिंग फ्लोर के साथ दो फ्लोर की और दक्षिण दिशा की टर्मिनल बिल्डिंग के साथ एक फ्लोर की है।

28X85 मीटर का एयर कानकोर्स का निर्माण किया गया है। नए टर्मिनल पर 14 लिफ्ट और 13 एक्सेलेटर यात्रियों के लिए लगाए जा रहे हैं। यात्रा के साथ खरीदारी का आनंद उठाने के लिए दो कॉमर्शियल ब्लॉक बनाए गए हैं। हर ब्लॉक में डबल बेसमेंट के साथ चार फ्लोर का निर्माण किया गया है। कॉमर्शियल ब्लॉक में 12 लिफ्ट और 8 एक्सेलेटर हैं। डबल बेसमेंट की पार्किंग व्यवस्था है।

Pic Social Media

6 साल बाद बनकर हुआ तैयार

यह स्टेशन पूरे 6 साल बाद एयरपोर्ट की तर्ज पर बनकर तैयार हुए गोमती नगर रेलवे स्टेशन को अटल बिहारी वाजपेयी रेलवे स्टेशन के नाम से जाना जाएगा। पूरा स्टेशन एयरकंडीशंड होगा। स्टेशन में स्वचालित सीढ़ियों के साथ-साथ लिफ्ट भी लगाई गई है। सूत्रों के अनुसार, रेल भूमि विकास प्राधिकरण 15 फरवरी को इसे पूर्वोत्तर रेलवे को सौंपेगा।