Greater Noida वेस्ट में आपने यहां तो नहीं खरीद लिया प्लॉट? क्योंकि चल रहा है बुलडोजर

Trending ग्रेटर नोएडा- वेस्ट नोएडा

Greater Noida West: ग्रेटर नोएडा वेस्ट में आपने यहां तो प्लॉट (Plot) नहीं खरीद लिया। क्योंकि वहां बुलडोजर चल रहा है। इन दिनों ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी (Greater Noida Authority) लगातार एक्शन मोड में दिखाई दे रही है। बिसरख में बने अधिसूचित एरिया में बने अवैध निर्माण (Illegal Construction) पर अथॉरिटी ने बड़ा कदम उठाया है। यहां बिना अनुमति फ्लैटों का निर्माण कर रहे बिल्डर और उसके दस लोगों पर एफआईआर (FIR) दर्ज करवाई गई है। अवैध निर्माण को बुलडोजर (Bulldozer) से तोड़ दिया गया है। पढ़िए पूरी खबर…
ये भी पढ़ेः ग्रेटर नोएडा में बिल्डर कंपनी के कर्मचारियों का फ़र्जीवाडा..फ्लैट ख़रीदारों से लाखों वसूले

Pic Social Media

आपको बता दें कि ग्रेटर नोएडा वेस्ट (Greater Noida West) में बिना अनुमति फ्लैटों का निर्माण कर रहे बिल्डर और उसके 10 लोगों पर एफआईआर दर्ज करवाई गई है। जिस जमीन पर यह अवैध निर्माण चल रहा था। वह अथॉरिटी (Authority) की जमीन है। अथॉरिटी ने करीब 10 साल पहले किसानों को मुआवजा (Compensation) दे दिया था। अब इस 12 हजार वर्ग मीटर जमीन की चारदीवारी करके भीतर अवैध रूप से फ्लैट बनाए जा रहे थे।

बुलडोजर लगाकर चारदीवारी को ध्वस्त कर दिया गया

अथॉरिटी के सहायक मैनेजर गौरव बघेल (Gaurav Baghel) ने बताया कि बिसरख में खसरा नंबर 814 की करीब 12 हजार वर्ग मीटर जमीन की अवैध रूप से बाउंड्री वॉल कर ली गई थी। बीते शुक्रवार की सुबह प्राधिकरण का दस्ता मौके पर गया। बुलडोजर लगाकर चारदीवारी को ध्वस्त कर दिया गया है। भीतर चल रहे निर्माण को रोक दिया गया है। जब प्राधिकरण का दस्ता मौके पर पहुंचा तो वहां निर्माण कर रही लेबर और दूसरे कर्मचारी भाग खड़े हुए। प्राधिकरण के अधिकारी भारी फोर्स लेकर मौके पर पहुंचे थे।

बिल्डर के खिलाफ बिसरख थाने में एफआईआर दर्ज करवाई गई

यह अवैध निर्माण बादलपुर का रहने वाला मनोज नागर नाम का बिल्डर करवा रहा था। मनोज नागर और उसके अन्य कर्मचारियों के खिलाफ बिसरख थाने में एफआईआर दर्ज करवाई गई है। इनके खिलाफ आगे की कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

12 हजार वर्ग मीटर पर यह अवैध हाउसिंग प्रोजेक्ट बनाया जा रहा था

अथॉरिटी के सहायक मैनेजर गौरव बघेल (Gaurav Baghel) ने बताया कि जिस 12 हजार वर्ग मीटर पर यह अवैध हाउसिंग प्रोजेक्ट (Illegal Housing Project) बनाया जा रहा था। उसकी कीमत करीब सौ करोड़ रुपये है। जमीन को कब्जा मुक्त करवा लिया गया है। प्राधिकरण ने पूरी जमीन अपने कब्जे में ले ली है। मौके पर बोर्ड लगाकर चेतावनी दी गई है।