Vastu Tips: घर में Negativity दूर करनी है तो ऐसे रखें बर्तन

Vastu-homes

नीलम सिंह चौहान, खबरीमीडिया

Vastu Tips For Home: वास्तु टिप्स को यदि आप भी मानते हैं, तो आपको भी पता होगा कि ये जीवन को सही तरह से व्यतीत करने में सहायक होता है। मान्यता है कि जो लोग अपने घरों में वास्तु नियमों का पालन करते हैं उनके जीवन में आने वाली कई समस्याएं घट जाती हैं। इनको सही से अपनाने से मान्यता है कि देवी और देवता भी खुश रहते हैं और सदैव अपनी कृपा बरसाते हैं।

वहीं, वास्तु दोष कुछ जरूरी नियमों को भी बताता है जैसे कि रसोई में बर्तनों को किस तरह से रखना चाहिए। घर में यदि उल्टे बर्तन या आड़े – तिरछे बर्तनों को रख दिया जाए तो उसका क्या असर होता है आदि। ऐसे में इससे बचने के उपायों के बारे में हम आपको डिटेल में बताएंगे –

Pic: Social Media

तवे को कभी भी उल्टा न रखें
ध्यान में रखें कि वास्तु में इस चीज की मनाही है कि तवे को कभी भी उल्टा नहीं रखना चाहिए। आप ऐसा लगातार करते हैं तो इससे वास्तु दोष पनपता है। इससे आपको कई तरह की परेशानियां भी उठानी पड़ सकती हैं, इसलिए तवे को उल्टा करके कभी न रखें।

कड़ाई को उल्टा कभी न छोड़े
कड़ाई का इस्तेमाल सब्जी बनाने , पूरी बनाने या कुछ भी फ्राई करने के लिए किया जाता है। लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार मानें तो इसे उल्टा रखने से घर में कलेश बढ़ता है और दरिद्रता का निवास होता है जाता है, इसलिए गलती से भी इसे उल्टा रखने कि भूल न करें। क्योंकि ये भी एक बेहद महत्वपूर्ण बर्तन में से एक होती है , इसलिए इसे उल्टा रखने की गलती से भी भूल न करें।

तवे और कड़ाई को भूलकर भी गंदा न छोड़े
वास्तु शास्त्र का कहना है कि तवे और कड़ाई को इस्तेमाल करने के बाद इसे हाथों – हाथ धो लेना चाहिए, इन दोनों बर्तन को गंदा छोड़ने की भूल नहीं करनी चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से आप नेगेटिविटी को मान्यता के अनुसार अपनी ओर बुलावा देते हैं।

पश्चिम दिशा में न रखें बर्तन
वास्तु शास्त्र के मुताबिक, स्टील, तांबे, पीतल के बर्तनों को रसोई की पश्चिम दिशा में नहीं रखना चाहिए। इन नियमों को पालन करने से आप वास्तु दोष से बच सकते हैं और आपके घरों में लगातार बरक्कत हो सकती है।

इसी के साथ ये भी जानिए कि किस दिशा में होना चाहिए रसोईघर में बर्तन
बर्तन को आग्नोय कोण में रखना चाहिए, क्योंकि ये शुभ माना जाता है। यदि आप वास्तु शास्त्र के इस नियम को नहीं मानते हैं तो मान्यता अनुसार इससे घर में रहने वालों सदस्यों के ऊपर बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे पाचन से जुड़ी कई दिक्कतें प्रारंभ हो जाती हैं।

कड़ाई और तवे के अलावा अन्य चीजें कैसे और कहां रखें
चूल्हा आग्नेय में, प्लेटफार्म पूर्व व दक्षिण को घेरता हुआ होना चाहिए। ध्यान में रखें कि वाश बेसिन उत्तर में हो। भोजन बनाते समय आपका मुख पूर्व की ओर होना चाहिए। ध्यान रहे की गलती से भी उत्तर व दक्षिण दिशा की ओर न हो।

Pic: Social Media

रसोई घर के कुछ ज़रूरी नियमों के बारे में डिटेल में जानिए

  • रसोईघर में किचन स्टैंड के ऊपर आकर्षित सुंदर दिखने वाले फूलों और फल – सब्जियों का चित्र लगाएं, ऐसा करने से आपके घर में बरकत बनी रहेगी।
  • यदि आपके किचन में कीड़े मकोड़े, मकड़ी या कॉकरोच घूम रहे हैं तो सावधानी बरतें। क्योंकि माना जाता है कि ये आपके बरकत को खा जाएंगे। इसलिए किचन की साफ सफाई में खासतौर पर अच्छे से ध्यान दें।
  • खाना खाने से पहले उसे अग्नि को अर्पित जरूर करें। क्योंकि भोजन अग्नि के बिना बन पाना न के बराबर है इसलिए पहला अधिकार अग्नि का ही होता है।
  • कोशिश करें कि खाने की थाली को हमेशा चटाई, पाट, चौक या टेबल में सम्मान के साथ ही रखें। खाने की थाली को भूलकर भी हाथ से न पकड़े। ऐसा करते हैं तो खाना प्रेत योनि में चला जाता है।
  • खाना खा लेने के बाद कभी भी प्लेट में हाथ न धोएं, थाली में कभी भी झूठा न छोड़े। खाना खा लेने के बाद थाली को कभी भी किचन स्टैंड , बेड या टेबल के नीचे न रखें। रात के झूठे बर्तन कभी भी रसोई में बिना धुले न छोड़े।
  • खाना खाने से पहले भगवान को याद जरूर करें, भोजन करते समय किसी तरह की बहस न करें। बच्चों के ऊपर खाना खाते समय कभी भी गुस्सा न करें। परिवार के साथ बैठकर ही खाना खाएं।
  • रात के समय चावल, दही और सत्तू का सेवन करने से मां लक्ष्मी का निरादर होता है। अतः समृद्धि चाहने वालों को तथा जिन व्यक्ति को आर्थिक कष्ट रहता हो, उन्हें इनका सेवन रात के भोजन में नहीं करना चाहिए।
  • खाने को सदैव उत्तर या पूर्व दिशा की तरफ मुख करके ही खाना चाहिए। कोशिश करें की रसोईघर में ही बैठकर भोजन करें, इससे राहु शांत होता है। जूते पहन रखें हैं कभी भी भोजन नहीं करना चाहिए।
  • किचन में यदि नल से पानी टपकता है तो आर्थिक क्षति होने का ये संकेत है, ऐसे में इसे जल्द से जल्द ठीक करवाएं।
  • सप्ताह में एक बार किचन में समुद्री नमक से पोछा लगाने से शांति मिलती है, मान्यता के अनुसार इससे घर की दरिद्रता दूर होती है और ये घर में उत्पन्न होने वाले नकारात्मक चीजों को भी जड़ से खत्म कर देता है।