यमुना एक्सप्रेसवे पर सफ़र करने वालों के ज़रूरी ख़बर पढ़िए

ग्रेटर नोएडा- वेस्ट दिल्ली दिल्ली NCR नोएडा

Yamuna Expressway: यमुना एक्सप्रेसवे पर सफ़र करने वालों के लिए बड़ी खबर सामने आ रही है। आपको बता दें कि यमुना एक्सप्रेस वे (Yamuna Expressway) की टोल दरों को लेकर 26 फरवरी को बड़ा फैसला होगा। यह फैसला यमुना प्राधिकरण (Yamuna Authority) की बोर्ड मीटिंग में होगा। आगामी वित्त वर्ष के लिए बजट आवंटन को लेकर होने वाली बैठक से पहले यमुना प्राधिकरण ने जेपी इंफ्राटेक (Jaypee Infratech) से रिपोर्ट मांग ली है। इस रिपोर्ट में कंपनी को टोल चार्ज में बढ़ोतरी के प्रस्ताव की वजह को बताना होगा।

ये भी पढ़ेंः Greater Noida West में दौड़ेगी मेट्रो..महेश शर्मा बोले सपना सच हुआ

Pic Social media

प्राधिकरण ने बढ़ोतरी की मांगी वजह

जेपी इंफ्राटेक (Jaypee Infratech) ने टोल दरों (Toll Rates) में बढ़ोतरी के लिए यमुना प्राधिकरण को प्रस्ताव भेजा था। इस प्रस्ताव को प्राधिकरण की 79 वीं बोर्ड मीटिंग में रखा गया था, लेकिन बोर्ड ने इस प्रस्ताव पर फैसला करने के बजाए कंपनी से टोल दरों में बढ़ोतरी की कारण बताते हुए रिपोर्ट मांगी है। इस रिपोर्ट में कंपनी को बताना होगा कि एक्सप्रेस वे की निर्माण लागत कितनी आई थी।

एक्सप्रेस वे की शुरुआत में यातायात को लेकर क्या पूर्वानुमान बनाया गया था। पूर्वानुमान के सापेक्ष यातायात की स्थिति क्या है। इससे प्राप्त होने वाले टोल टैक्स की प्रतिशत दर कितनी है। यातायात के पूर्वानुमान के मुताबिक, कंपनी एक्सप्रेस वे की निर्माण लागत कब तक प्राप्त कर लेगी। 36 साल की अनुबंध अवधि पूरा होने तक उसे कितना राजस्व मिल चुका होगा।

जानिए कब होगी बोर्ड की बैठक

निर्धारित अवधि में लागत की प्रतिपूर्ति (Compensation) के लिए टोल टैक्स में कितना बढ़ोत्तरी की आवश्यकता है। एक्सप्रेस वे के रखरखाव व पर होने वाले खर्च के साथ ही नोएडा एयरपोर्ट का संचालन शुरू होने पर एक्सप्रेस वे पर बढ़ने वाले ट्रैफिक के पूर्वानुमान एवं उससे प्राप्त होने वाले टोल टैक्स, टोल वसूली की अवधि 15 साल बढ़ाने पर यातायात व टोल टैक्स आदि की जानकारी देनी होगी। यमुना प्राधिकरण सीईओ डा. अरुणवीर सिंह ने कहा कि टोल टैक्स में बढ़ोत्तरी को लेकर मांगी गई रिपोर्ट के आधार पर प्राधिकरण बोर्ड आगामी 26 फरवरी को होने वाली बैठक में विचार करेगा।

टोल दरों में प्रस्तावित वृद्धि रुपये प्रति किमी

श्रेणी-वर्तमान प्रस्तावित

दो, तीन पहिया व ट्रैक्टर-1.25 1.50
कार, जीप, हल्के वाहन-2.50 2.95
हल्के व्यवसायिक वाहन-3.90 4.60
बस, ट्रक-7.85 9.35
भारी वाहन तीन से छह धुरीय-11.90 14.25
छह व उससे अधिक धुरीय-15.40 18.35